आप नेताओं ने हरियाणा में बेरोजगारी के मुद्दे पर खट्टर सरकार को घेरा

आप नेताओं ने हरियाणा में बेरोजगारी के मुद्दे पर खट्टर सरकार को घेरा

Share This Story

Share This Story

चंडीगढ़: आम आदमी पार्टी ने प्रदेशस्तरीय बदलाव यात्रा के चौथे दिन आप नेताओं ने हरियाणा में बेरोजगारी के मुद्दे पर खट्टर सरकार को घेरा। चौथे दिन प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद डॉ. सुशील गुप्ता पलवल में रहे। प्रदेश प्रचार समिति के अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर फतेहाबाद, वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष अनुराग ढांडा रेवाड़ी और प्रदेश उपाध्यक्ष चित्रा सरवारा जगाधरी में रहीं। डॉ. सुशील गुप्ता ने कहा कि हरियाणा बेरोजगारी में नंबर वन है। 2 लाख से ज्यादा पद हरियाणा में रिक्त हैं। इनमें 71,000 पद शिक्षा विभाग में खाली पड़े हैं, प्रारंभिक शिक्षा विभाग में 42,000 और माध्यमिक शिक्षा विभाग में 29,000 पद खाली पड़े हैं। इसके अलावा पुलिस विभाग में 21500, परिवहन विभाग में 10000, पशुपालन विभाग में 5500, सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभाग में 5000, अग्निशमन विभाग में 3320 और चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान में 3000 पद रिक्त पड़े हैं। हरियाणा सरकार युवाओं को रोजगार देने में नाकाम साबित हुई है।

उन्होंने कहा हाल ही में हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को फटकार लगाई है कि आंकड़ों को खेल खेलना बंद करें और बताएं कि हरियाणा में रोजगार के लिए क्या किया जा रहा है। भाजपा सरकार के राज में लगातार पेपर लीक हो रहे हैं, पिछले 10 सालों में न जाने कितने युवाओं पर के मौके चले गए, परीक्षा देकर रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं और आज उनकी क्वालीफिकेशन की उम्र ही निकल गई है।
डॉ. अशोक तंवर ने कहा कि हरियाणा में 2 लाख सरकारी पद खाली पड़े हैं, लेकिन लोगों को रोजगार नहीं दे रही। बेराजगारी के कारण युवा अपनी जमीन को बेचकर विदेशों की तरफ पलायन करने को मजबूर हैं। आंकड़े बताते हैं कि सीएम सीटी करनाल से हर साल 3500 युवा विदेशों की ओर पलायन कर रहे हैं। इसके अलावा डोंकी की रास्ते अपनी जान को जोखिम में डाल रहे हैं।
जिसकी जिम्मेदार हरियाणा सरकार है, क्योंकि रोजगार और शिक्षा को लेकर हरियाणा सरकार की नीतियां सही नहीं है। जिसका खामियाजा प्रदेश में युवाओं को भुगतना पड़ रहा है।

Join Channels

Share This Story

The Bombay Tribune Hindi

फॉलो करें हमारे सोशल मीडिया

Recent Post

वोट करें

What does "money" mean to you?
  • Add your answer